4kW Solar Panel Price in India with Subsidy 2024 :भारत में सब्सिडी के साथ किफायती 4kW सोलर पैनल की कीमत के बारे में

4KW Solar Panel Price in India with Subsidy

4KW Solar Panel Price in India with Subsidy: सौर ऊर्जा एक प्रमुख हरित ऊर्जा का मुख्य स्रोत है जो आवासीय एवं व्यावसायिक क्षेत्र को बिजली प्रदान कर रहा है। इसकी उच्च नवीकरणीय क्षमता के कारण, अधिक से अधिक उपभोक्ता ग्रिड निर्भरता को कम करने और मासिक बिजली खर्च में कटौती करने के लिए सौर ऊर्जा की ओर रुख कर रहे हैं। भारत सरकार लोगों के आवासीय बिजली की आवश्यकता के लिए सौर प्रणाली का उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए सब्सिडी सहायता प्रदान कर रही है। भारत देश के छोटे घर से लेकर बड़े इमारत एवं अन्य क्षेत्र में सौर सब्सिडी का लाभ उठा सकता है। सौर सब्सिडी का मुख्य उद्देश्य पूरे भारतवर्ष के आवास क्षेत्र के लिए सोलर पैनल के कीमत को कम करना है। ऐसे में यदि आप लोग सोलर पैनल को अपने घरों में स्थापित करने का विचार कर रहे हैं तो 4 किलोवाट सोलर पैनल आप लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

तो आईए हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से 4KW Solar Panel Price in India संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान कर रहे हैं इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

4KW Solar Panel Price in india – Overview

आर्टिकल का नाम4KW Solar Panel Price in India With Subsidy
आर्टिकल का प्रकारसोलर पैनल
आर्टिकल का भाषाहिंदी
उद्देश्य4 किलोवाट सोलर पैनल का कीमत सब्सिडी के साथ जानकारी प्रदान करना।
लाभार्थीभारत के उपभोक्ता
सोलर पैनल क्षमता4 किलोवाट
4 किलोवाट सोलर पैनल का कीमतब्रांड और दक्षता के अनुसार

भारत में सौर ऊर्जा का महत्व | Importance of Solar Energy in India

  • स्थिरता और नवीकरणीयता: जीवाश्म ईंधन के विपरीत, जो कि सीमित है, सूर्य ऊर्जा का एक सतत स्रोत है। यह सौर ऊर्जा को एक टिकाऊ और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत बनाता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि निकट भविष्य में हमारे पास इसकी कमी न हो।
  • ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कमी: सौर पैनल ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन किए बिना बिजली का उत्पादन करते हैं। सौर ऊर्जा में परिवर्तन करके, हम जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों से निपटते हुए, अपने कार्बन पदचिह्न को काफी कम कर सकते हैं।
  • आर्थिक लाभ: पिछले कुछ वर्षों में सौर पैनलों की लागत में गिरावट आई है, और अग्रिम लागत में उल्लेखनीय कमी से सौर ऊर्जा कई लोगों के लिए अधिक सुलभ विकल्प बन गई है। यह दुनिया भर में व्यक्तियों, व्यवसायों और समुदायों को सौर ऊर्जा के आर्थिक लाभ प्राप्त करने की अनुमति देता है, जिसमें बिजली बिल में कटौती, कम रखरखाव लागत और नेट मीटरिंग और छूट जैसे कार्यक्रमों में भागीदारी शामिल है। इसके अलावा, सौर उद्योग ने दुनिया भर में नौकरियां पैदा की हैं, अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा दिया है और रोजगार के अवसर प्रदान किए हैं।
  • ऊर्जा स्वतंत्रता: सौर ऊर्जा पर भरोसा करने से विदेशी तेल और आयातित जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम हो जाती है, जिससे राष्ट्रों के लिए ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ावा मिलता है। यह घर मालिकों और व्यवसायों को ऊर्जा ग्रिड पर अपनी निर्भरता कम करने की भी अनुमति देता है।

आवासीय 4KW सोलर सिस्टम के प्रकार | Types of Residential 4kW Solar Systems

आवासीय 4KW सोलर सिस्टम तीन प्रकार के होते हैं – 

  1. 4KW ऑन-ग्रिड
  2. 4KW ऑफ-ग्रिड 
  3. 4KW हाइब्रिड। 

आईए हम आपको इनके बारे में संक्षिप्त रूप से जानकारी प्रदान कर रहे हैं

  1. 4KW ऑन-ग्रिड सौर प्रणाली

ऑन-ग्रिड सौर प्रणाली को ग्रिड-बंधे सौर प्रणाली के रूप में भी जाना जाता है। यह पावर ग्रिड से जुड़ा है. दिन के दौरान सौर मंडल जो ऊर्जा पैदा करता है उसका उपयोग घर चलाने के लिए किया जाता है, और इसकी अतिरिक्त ऊर्जा ग्रिड में पहुंचा दी जाती है। 

रात में ग्रिड से बिजली आयात की जाती है। एक नेट मीटर स्थापित किया गया है जो इस बिजली विनिमय पर नज़र रखता है। यदि आपने अपने सौर मंडल द्वारा उत्पादित बिजली से अधिक बिजली का उपयोग किया है, तो आप उपयोग की गई इकाइयों के लिए डिस्कॉम को भुगतान करेंगे। 

यदि आपने ग्रिड को इकाइयों की आपूर्ति की है, तो डिस्कॉम आपको भुगतान करता है। 

2. 4KW ऑफ-ग्रिड सौर प्रणाली

ऑफ-ग्रिड सौर प्रणालियाँ पावर ग्रिड से नहीं जुड़ी होती हैं और पूरी तरह से सौर ऊर्जा के स्व-उत्पादन पर निर्भर होती हैं। ये स्वतंत्र प्रणालियाँ हैं जो 24×7 घरेलू बिजली आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बैटरी भंडारण का उपयोग करती हैं।

बैटरियां ऐसी प्रणालियों का एक महत्वपूर्ण घटक हैं, जिनके बिना ये सिस्टम रात में उपयोग के लिए बिजली का भंडारण नहीं कर सकते हैं। 

3.4KW हाइब्रिड सोलर सिस्टम

हाइब्रिड सौर प्रणाली ऑन-ग्रिड और ऑफ-ग्रिड प्रणालियों की विशेषताओं का एक संलयन है। यह ग्रिड से बंधा हुआ है और साथ ही बैटरी भंडारण प्रणालियों से सुसज्जित है। 

4KW सौर पैनलों की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक | Factors Affecting the Price of 4KW Solar Panels

4kW सौर पैनलों की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित है:-

  • सौर पैनल के प्रकार:- सौर पैनल के प्रकार सबसे ज्यादा कीमत को प्रभावित करता है। यदि आप लोग उच्च दक्षता वाले मोनोक्रिस्टलाइन पैनल को चुनते हैं तो इसकी कीमत अधिक होगी जबकि पॉलीक्रिस्टलाइन पैनल  की कीमत कम होता है।
  • इन्वर्टर गुणवत्ता:– इनवर्टर सोलर पैनल का एक महत्वपूर्ण अंग होता है सौर ऊर्जा से बिजली ऊर्जा में परिवर्तित करने में इसका महत्वपूर्ण योगदान होता है। यदि आप लोग एक उच्च दक्षता वाले इनवर्टर का चुनाव करते हैं तो इसका कीमत अधिक हो सकता है।
  • स्थापना जटिलता:-सोलर पैनल को स्थापित करना एक महत्वपूर्ण कठिन कार्य होता है। जो कीमत को अत्यधिक प्रभावित करता है। घर के छत के ऊपर लगाए गए सोलर पैनल जमीन पर लगाया गया सोलर पैनल की अपेक्षा अत्यधिक सस्ता होता है।
  • स्थान:– सोलर पैनल की कीमत को स्थान भी काफी प्रभावित करता है। आप जिस स्थान पर रहते हैं उस स्थान का जलवायु, सूर्य का प्रकाश ,मौसम इत्यादि उच्चतम ऊर्जा उत्पादन करने के लिए सोलर पैनल के संख्याओं को प्रभावित करता है और इस प्रकार सोलर पैनल की संख्या बढ़ने से इसकी कीमत भी बढ़ जाएगी।
  • सरकारी सहायता:- भारत में कई राज्यों में सरकार के द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रोत्साहन एवं सब्सिडी प्रदान की जाती है। अर्थात सरकारी सहायता भी 4 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत को प्रभावित कर सकता है।
  • वारंटी एवं रखरखाव:- उच्च दक्षता वाले सोलर पैनल का कीमत अधिक होता है लेकिन यह एक लंबी वारंटी के साथ आता है। जिससे दीर्घकालीन रखरखाव कीमत कम हो जाता है।
  • ऊर्जा आवश्यकता:– सोलर पैनल का कीमत को आपकी ऊर्जा आवश्यकता भी काफी प्रभावित करता है। आपके आवश्यक ऊर्जा को पूर्ति करने के लिए एक बड़े सोलर प्रणाली की आवश्यकता पड़ती है।

भारत में 4KW सोलर सिस्टम की कीमत | Price of a 4kW Solar System in India

भारत में बिजली के समस्या से राहत प्रदान करने के लिए भारत सरकार सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन करने के कार्य काफी तेजी के साथ कर रहे हैं। भारत में 4 किलो वाट सोलर सिस्टम का कीमत सोलर पैनल के प्रकार, ब्रांड,क्षमता के ऊपर निर्भर करता है। आप लोग जिस प्रकार का सोलर पैनल का चुनाव करेंगे आपका कीमत उसी के प्रकार होगा।

यदि आप मोनोक्रिस्टलाइन पीवी कोशिकाओं से निर्मित सौर पैनलों का चयन करते हैं, तो 4 किलोवाट सौर पैनल की कीमत अधिक होगी, क्योंकि इस प्रकार के सौर पैनल लगभग 19 से 20% की उच्च दक्षता प्रदान करते हैं। जबकि पॉलीक्रिस्टलाइन सौर पैनल तुलनात्मक रूप से कम लागत वाले होते हैं, जिनकी दक्षता लगभग 16 से 17% होती है। ऑन-ग्रिड, ऑफ-ग्रिड और हाइब्रिड के बीच चुने गए विभिन्न ब्रांडों और सौर प्रणालियों के प्रकारों के साथ सौर पैनलों की विशिष्टताएं और कीमतें भी भिन्न होती हैं।

4 किलोवाट सोलर सिस्टम बैटरी की कीमत के साथ | 4kW Solar System With Battery Price

4 किलोवाट सोलर सिस्टम बैटरी की कीमत के साथ गुणवत्ता एवं ब्रांड के ऊपर निर्भर करता है। 4 किलोवाट सोलर पैनल के सिस्टम में सबसे ज्यादा 150Ah की बैटरी का उपयोग होता है। क्योंकि अधिकतर घरों में पंखे ,कूलर ,लाइट आदि चलते हैं। इसलिए इस स्थिति में एक साधारण बैटरी बैकअप की आवश्यकता होती है। यदि आप लोगों को अधिक बैटरी बैकअप की आवश्यकता है तो 200 Ah की बैटरी लेनी चाहिए। 4 किलो वाट सोलर सिस्टम 150Ah (15000×4=60,000) बैटरी के साथ इसकी कीमत लगभग 275000 से लेकर 3010000 तक हो सकता है।

4 किलोवाट सौर पैनलों का कार्य | 4KW Solar Panels Working

बिजली उत्पन्न करने के लिए पैनलों में सौर फोटोवोल्टिक तकनीक का उपयोग किया जाता है। आपके 3kW सौर पैनल के आकार और प्रकार या आपके सौर ऊर्जा प्रणाली की प्रकृति के बावजूद, बिजली उसी फोटोवोल्टिक प्रभाव के माध्यम से उत्पन्न होती है।

जब सूर्य के प्रकाश में फोटॉन पीवी मॉड्यूल के संपर्क में आते हैं, तो एक साथ लगे सौर सेल इन फोटॉनों को अवशोषित कर लेते हैं। यह ऊर्जा या प्रत्यक्ष धारा का प्रवाह बनाता है, और इसे प्रयोग करने योग्य प्रत्यावर्ती धारा (एसी) ऊर्जा में बदलने के लिए सौर इन्वर्टर की आवश्यकता होती है। यह परिवर्तित ऊर्जा आपके घर या कार्यालय को शक्ति प्रदान करती है।

4 किलोवाट सौर प्रणाली तथ्य और लाभ | 4KW Solar System Facts & Benefits

  • ऊर्जा उत्पादन:– 4 किलोवाट सोलर प्रणाली के द्वारा कितनी कितनी यूनिट बिजली उत्पादन होता है यह एक महत्वपूर्ण तथ्य है। 4 किलो वाट सोलर पैनल के द्वारा औसत बिजली उत्पादन क्षमता 16 यूनिट प्रतिदिन है। इसलिए आप लोग उम्मीद कर सकते हैं कि इस सौर प्रणाली से 480 यूनिट महीने में और साल में 5760 यूनिट बिजली उत्पादन कर सकता है।
  • आवश्यक क्षेत्र:- 4 किलोवाट सोलर प्रणाली को स्थापित करने के लिए एक बड़े आकार में छत की जगह की आवश्यकता पड़ती है।
  • वारंटी:- आपके 4kW सौर पैनलों पर 25 साल की प्रदर्शन वारंटी होगी, जबकि अन्य महत्वपूर्ण सौर घटकों पर उनके ब्रांड के आधार पर 5-10 साल की उत्पाद वारंटी होगी।
  • सब्सिडी:– यदि आप भारत में सब्सिडी के साथ 4 किलोवाट सौर पैनल की कीमतों की खोज करते हैं, तो यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सौर सब्सिडी केवल नेट मीटरिंग के तहत विनियमित सौर प्रणालियों पर लागू होती है। ऑफ-ग्रिड सौर प्रणालियाँ सरकारी सब्सिडी के लिए पात्र नहीं हैं।

4 किलोवाट सोलर प्रणाली का निम्नलिखित लाभ है:-

  • 4 किलोवाट सौर प्रणाली का उपयोग करने से बिजली के बिल के समस्या से राहत प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि यह सोलर पैनल प्रणाली सूर्य के प्रकाश से बिजली उत्पादन करता है। जिससे हम लोगों को पारंपरिक प्रत्येक महीना जो बिजली का बिल आता है उसमें एक काफी हद तक राहत प्रदान होता है।
  • सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से पर्यावरण स्वच्छ रहता है इसका उपयोग करने से पर्यावरण में किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं फैलता है।
  • सोलर पैनल प्रणाली एक दीर्घकालिक निवेश है। अर्थात सोलर प्रणाली को एक बार पैसा लगाकर इंस्टॉल कर लेने से कम से कम 25 वर्ष तक इसके द्वारा उत्पन्न बिजली का लाभ उठा सकते हैं।
  • सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से इसका रखरखाव खर्चा काफी कम होता है। क्योंकि सोलर पैनल प्रणाली काफी मजबूत होता है।
  • सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से भारत सरकार और राज्य सरकार के द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है।
  • पारंपरिक बिजली के ऊपर निर्भरता कम हो जाता है।

भारत में 4 किलोवाट सौर प्रणाली स्थापना लागत | 4KW Solar System Installation Cost in India

भारत में 4 किलो वाट सौर प्रणाली स्थापना लागत क्षमता एवं आकर,दक्षता, स्थान के आधार पर भिन्न-भिन्न हो सकता है। इसके अलावा, माउंटिंग सिस्टम की आपकी पसंद आपके 5 किलोवाट सौर प्रणाली की कीमतों को प्रभावित करती है ।इसलिए, किसी विशेषज्ञ सोलर इंस्टालर  से आप संपर्क करेंगे ताकि आपके छत पर सफलता के साथ 4 किलो वाट का सोलर सिस्टम स्थापित हो सके मार्केट में आपको कई प्रकार की सोलर संबंधित शोरूम या दुकान मिल जाएंगे जहां पर आप जाकर 4 किलो वाट सोलर सिस्टम स्थापित करने में लागत कितनी आएगी उसके बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं। भारत में राज्यों के अनुसार सोलर सिस्टम लगाने की लागत अलग-अलग होती हैं। 4 किलोवाट और प्रणाली का स्थापना लागत 1,50,000 से लेकर 2,05,000 तक हो सकता है। 

भारत में 4KW सोलर पैनल के लिए सब्सिडी | Subsidy for 4KW Solar Panels in India

आइए अब 4 किलोवाट सोलर सिस्टम के लिए मिलने वाली सब्सिडी पर चर्चा करते हैं। आपको ध्यान देना चाहिए कि आवासीय सौर पैनल स्थापना पर सरकारी सब्सिडी का लाभ घर के लिए सौर ऊर्जा को काफी की सस्ती और फायदेमंद बनता है। आपके सर प्रणाली के आकार और प्रकार के आधार पर आप सौर सब्सिडी के लिए अपनी पात्रता और भारत में 4 किलोवाट पैनल का कीमत सब्सिडी के साथ निर्धारित कर सकते हैं।

3 किलोवाट से 10 किलोवाट रेंज के बीच सौर प्रणालियों के लिए, घर के मालिकों को पहले 3 किलोवाट के लिए 40% सब्सिडी/किलोवाट मिलती है। और शेष (10 किलोवाट तक) के लिए, उन्हें प्रति किलोवाट एल1 दर पर 20% सब्सिडी मिलती है। 

ध्यान दें कि सब्सिडी केवल ऑन-ग्रिड घरेलू प्रतिष्ठानों (घर मालिकों और हाउसिंग सोसायटी) के लिए उपलब्ध है।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आपका कल आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न सुझाव है तो आप लोग हमारे कमेंट्स बॉक्स में आकर अपने प्रश्न को पूछ सकते हैं हम आपका प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे।

FAQ’s:

Q. 4KW सौर पैनल प्रणाली कितनी बिजली उत्पन्न करती है?

Ans. 4 किलोवाट का सौर पैनल सिस्टम मानक परिस्थितियों में हर दिन लगभग 16 किलोवाट बिजली का उत्पादन करता है। इसका मतलब है कि मासिक उत्पादन लगभग 480 यूनिट होगा।

Q. क्या 4 किलोवाट सौर पैनल की कीमत के लिए निवेश लागत का समर्थन करने के लिए सरकारी सब्सिडी उपलब्ध है?

Ans. हां, निवेश की लागत कम करने के लिए वित्तीय सहायता के रूप में सरकारी सब्सिडी योजनाएं उपलब्ध हैं। 

Q. भारत में 4 किलोवाट सौर पैनल की मूल्य सीमा क्या है?

Ans.विभिन्न 4KW सौर पैनलों की कीमत ब्रांड, मॉडल, सौर पैनल के प्रकार, क्षमता आदि जैसे कारकों के आधार पर भिन्न होती है। भारत में, 4 KW सौर पैनल की कीमत 1,80,000 रुपये से लेकर 1,80,000 रुपये तक है। 2,80,000. ध्यान रखें कि इस 4 किलोवाट सौर पैनल मूल्य सीमा में सब्सिडी राशि शामिल नहीं है।

Q. 4 किलोवाट सोलर पैनल पर कितने वर्ष का वारंटी प्राप्त होता है?

Ans. 4 किलो वाट सोलर पैनल का वारंटी ब्रांड के ऊपर निर्भर करता है विभिन्न प्रकार के ब्रैंड अलग-अलग वारंटी प्रदान करते हैं लेकिन साधारण रूप से 25 वर्ष की वारंटी प्रदान की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *