बिजली की खोज सर्वप्रथम कब और किस प्रकार हुई थी | Bijli Ka Avishkar Kisne Kiya in Hindi

By | October 3, 2023

बिजली का आविष्कार किसने किया: जैसा कि आप जानते हैं कि आज हमारे जीवन में बिजली का विशेष महत्व है क्योंकि इसके माध्यम से ही हमारे घर में जितने भी इलेक्ट्रॉनिक चीजें हैं उसका संचालन किया जा सकता है और सबसे महत्वपूर्ण बात है कि देश के विकास में बिजली का विशेष योगदान है क्योंकि सभी उद्योग धंधों में बिजली की आवश्यकता पड़ती है ऐसे में कई लोगों के मन में सवाल आता है कि बिजली का आविष्कार किसने किया था अगर आप इसका जवाब नहीं जानते हैं तो हम आपको आज के आर्टिकल में बिजली का आविष्कार किसने किया था उसके बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देंगे इसलिए अनुरोध है कि आर्टिकल पूरा पढ़ें आइए जानते हैं-

बिजली क्या है? Bijli Kya Hai

बिजली एक ऐसी शक्ति है जिसे ना कोई देख सकता है और ना ही इसे छू सकता है बल्कि इसका प्रभाव महसूस किया जा सकता है | इसके द्वारा आपके घर में जितने भी इलेक्ट्रॉनिक चीज है उसका संचालन होता है |

बिजली के आविष्कार का इतिहास? Bijli Avishkar History

बिजली का आविष्कार  600 वर्ष ईसा पूर्व थेल्स नाम के वैज्ञानिक ने किया था।थेल्स यूनान के महान भौतिक वैज्ञानिक थे उसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका के एक वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रैंकलिन ने अपने वैज्ञानिक परीक्षण के द्वारा उन्होंने बिजली उत्पन्न किया इसके अलावा उन्होंने लोगों को बताया कि आकाश में जो बिजली चमकती है उसका दूसरा स्वरूप बिजली है जिसका इस्तेमाल कर हम अपने घर के सभी इलेक्ट्रॉनिक चीजों को आसानी से संचालित कर सकते हैं |

इसके बाद फ्रांस के वैज्ञानिक वैज्ञानिक जार्ज लेक्लांशे ने एक गिला बैटरी बनाकर उसमें से बिजली उत्पन्न किया उन्होंने अमोनियम क्लोराइड का घोल बनाकर उसमें जस्ता और कार्बन का छड़ बनाया और अमोनियम क्लोराइड के घोल में उसको डुबाकर बिजली उत्पन्न किया इसके बाद 1800 में एलेस्सान्डो् वोल्टा (Alessandro Volta) ने पहली बिधुत सेल बनाई, जिससे बिधुत धारा प्राप्त की जा सकती थी। लेकिन 1821 में विद्युत पैदा करने की दिशा में सबसे बड़ा काम 1831 में माइकल फैराडे (Michal Faraday) ने किया उन्होंने सबसे पहले यह बताया की यदि तांबे के तार से बनी कुंडली (Coil) में एक चुम्बक को आगे-पीछे किया जाए, तो बिजली पैदा हो जाती है। उनके इसी सिद्धांत का इस्तेमाल कर  विधुत पैदा करने वाले जेनरेटरों (Generators) का विकास हुआ |

बिजली का आविष्कार किसने किया | Bijli Ka Avishkar Kisne Kiya

बिजली का आविष्कार 1800 में एलेस्सान्डो् वोल्टा (Alessandro Volta) ने किया वही सबसे पहले व्यक्ति थे। जिन्होंने पहली विधुत सेल बनाई, जिससे विधुत धारा प्राप्त की जा सकती थी।  जिसके कुछ दिनों बाद इस बात को पता लगाया जा सकता है कि विद्युत धारा से ऊर्जा प्रकाश और रासायनिक चुंबकीय प्रभाव पैदा किए जा सकते हैं | विद्युत उत्पन्न करने की दिशा में सबसे पहला क्रांतिकारी कार्य 1831 मेंमाइकल फैराडे (Michael Faraday) ने किया उन्होंने बताया कि यदि तांबे की तार से बनी हु Coil) में एक चुम्बक को आगे-पीछे किया जाए, तो बिजली पैदा हो जाती है।  उनके इस सिद्धांत के माध्यम से ही विद्युत पैदा करने की पद्धति का निर्माण किया गया और इसी सिद्धांत के द्वारा है जनरेटर का भी विकास हुआ सबसे पहला सफल विधुत डायनमो (Dynamo) या जेनरेटर जर्मनी में सन 1867 में बनाया गया। 1858 में अमेरिका में  गिरते हुए पानी की मदद से टरबाइन चलाकर विद्युत पैदा किया गया जिसके बाद दुनिया में बहुत से जल विद्युत उत्पादन केंद्र और ताप विद्युत उत्पादन केंद्र का विकास हुआ और उसी के द्वारा बिजली उत्पन्न करने  करने का काम आज के समय किया जाता है

बिजली के बारे मेँ रोचक तथ्य

●   आसमान से गिरने वाली बिजली 10 करोड़ volt की होती है, हमारे घर में जो बिजली प्रयोग में लाई जाती है वह 220 वोल्ट का होता है

●   हमारे घरों में चलने वाले वॉशिंमशिन, टीवी, फ्रिज सब सिर्फ 5 Amp पर  चलता है।  

●  भारत जैसे देश में प्रत्येक साल 2500 से लेकर 3000 लोग बिजली गिरने से मारे जाते हैं

●  एक अध्ययन के मुताबिक बिजली गिरने से मरने वालों की संख्या में 80% पुरुष और 20% केवल महिलाएं होती हैं

●  दुनिया में  सबसे ज्यादा बिजली पानी के द्वारा गाया जाता है |

●  दुनिया में सबसे ज्यादा बिजली उत्पन्न करने वाला देश चीन है, भारत तीसरे स्थान पर है।

●   भारत में सबसे ज्यादा सोलर एनर्जी उत्पन्न करने वाला राज्य गुजरात है।

●  भारत में बिजली पाने वाला सबसे पहला शहेर बेंगलुरु है।

●  भारत में सबसे पहले बिजली का उपयोग 24 july 1879 को कोलकाता में किया गया था।

●  क्या आपको पता है बिजली गिरने की सबसे अधिक संभावना दोपहर को होती है।

●  आकाशीय बिजली में इतनी उर्जा होती है कि सिर्फ एक बार में ही 1.5 लाख ब्रेड को आप सेक

विद्युत कितने प्रकार के होते हैं?

 बिजली दो प्रकार की होती है जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं

  1. डाइरेक्ट करंट यानि द्विष्ट धारा
  2. अलटरनेट करंट यानि प्रत्यावर्ती धारा

भारत में बिजली का आविष्कार किसने किया   

भारत में बिजली का आविष्कार किसने किया बहुत ही कम लोगों को मालूम होगा हम आपको बता दें में से बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि अगस्त्य ऋषि बिजली और बिजली की बैटरी के जनक थे। महर्षि अगस्त्य सप्तऋषि में से एक थे और वे ऋषि वशिष्ठ के बड़े भाई थे जो राजा दशरथ के कुलगुरु थे। उनके द्वारा ही बिजली का आविष्कार किया गया था |

भारत में बिजली का आविष्कार कब हुआ? Bharat Me Bijli Ka Avishkar Kab Hua

भारत में बिजली सबसे पहले 1889 में कोलकाता में आई उसके बाद पहली बिजली बनाने वाली फैक्ट्री का निर्माण कोलकाता में 1899 में किया गया | उसका नाम कोलकाता इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कारपोरेशन रखा गया उसके बाद 1902 में मैसूर में जल विद्युत केंद्र बनाया गया और फिर डीजल से बनने वाली बिजली का उत्पादन दिल्ली में 1905 में किया गया था |

बिजली के जन्मदाता कौन है? उत्पत्ति कैसे हुई? Bijli Ke Janmdata Kon Hai

बिजली का जन्मदाता बेंजामिन फ्रैंकलिन ने किया था। उन्हें ही बिजली का आविष्कारक माना जाता है। जून 1752 में उन्हें एक पतंग की डोर के नीचे एक धातु की चाबी लगी हुई है और पतंग को एक तूफान-खतरे वाले  आकाश में उड़ा और उन्होंने देखा की चाबी के ऊपर बिजली की चिंगारी दिखाई पड़ रही है तब उन्हें इस बात की जानकारी प्राप्त हुई बिजली के बोल्ट बिजली का एक रूप थे।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easybhulekh.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *